PM Kusum Scheme क्या है?

कुसुम योजना(Kusum Yojana)का पूरा नाम (किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं ऊहाण महाअभियान) यह योजना किसानो की बिजली की समस्याओ को देखते हुए बनायीं गयी है। यह एक सोलर (सोलर Energy)योजना है इसमे किसान को सोर ऊर्जा के माध्यम से बिजली की जरुरत को पूरा करना है।

कुसुम योजना को सरकार द्वारा 2019 मै बनाया गया था और 2020 के बजट मै भी संजा किया गया था। इस योजना मै किसानो को सोलर सिस्टम लगवाने पर सब्सिडी मिलती है जो की एक बहुत अच्छी बात है। इस मै किसानो को 15 लाख से ज्यादा किसानो को वाटर सोलर पंप की सहायता भी मिलेगी। इस योजना मै किसान बिजली बना सकता है और बिजली को बेच भी सकता है।

कुसुम योजना को सरकार ने तीन अंग (Component) मै बाटा गया है इसको हम बिस्तर से समझते है।

ऑनलाइन व्यापार कैसे करे 2021

Component (अंग) A

इसमे यह है की किसान अपनी जमीन मै 500 Kw किलोवाट से लेकर 2Kw किलोवाट तक का पावर प्लांट लगा सकते है और इस द्वारा जो बिजली पैदा होगी उसको आप ग्रिड को बेच सकते है और मुनाफा कमा सकते है।

कुसुम योजना मै दो और प्रकार प्रकार है जैसे की अप्प किसान हो आपके पास जमीन है अप्प इस योजना के तहत इस प्रोजेक्ट को लगा सकते हो।

दूसरा अगर आप किसान नहीं हो और आपके पास पैसा है और अप्प इन्वेस्टमेंट कर सकते हो तो भी अप्प इस स्कीम का फिडा उठा सकते हो। कुसुम योजना दोनों के लिए है किसान और इन्वेस्टर।

Component (अंग) B

कुसुम योजना उन किसानो के लिए है जहा पर ग्रिड नहीं है बिजली नहीं है और जमीन भी है साथ मै जमीन मै पानी भी है। इस मै किसान को एक पानी का पंप जो की सोलर के द्वारा चलता है अंग B मै ऐसे लगाया जाता है।

कुसुम योजना में सरकार आपके खेत मई एक पानी का पंप लगा कर जाएगी और उस में बिजली के लिए सोलर का इस्तेमाल होगा।

Component (अंग) C

कुसुम योजना के तहत जिन किसानो के खेत मई पानी के पंप लगे हुए है उन पानी के पंप को सोलर ऊर्जा में लगा कर तब्दील करना है एही कुसुम योजना का मकसद है।

योजना B और C मै सरकार किसानो को सब्सिडी भी देती है जैसे की केंदर सरकार 30% और राजय सरकार 30% कुल मिला कर 60% सब्सिडी इस योजना पर मिलती है।

सरकार किसानों को सोलर पैनल पर कैसे छूट देती है

कुसुम योजना मै किसान अगर अपना सोलर सिस्टम लगवा रहे है तो किसानो को केवल कुल फीस का 10% देना होगा ऐसा इस लिए है की किसान को कम से कम खर्चे मै ज्यादा लाभ मिल सके।

कुसुम जोयना मै सरकार 30% और राजय सरकार 30% कुल मिला कर 60% सब्सिडी इस योजना पर मिलती है और 30 का लोन हो जाता है।

सब्सिडी का मतलब जैसे की किसान इस योजना के तहत सोलर पंप लगवाता है उसको एक बार सारी पेमेंट करनी होगी सब पेमेंट करने के बाद मै आपको केंदर और राजेह सरकार को बताना पड़ेगा की अपने सोलर सिस्टम लगवाया है और आपको इस स्कीम के तहत आपको
सब्सिडी को अप्लाई करना होगा उसके बाद आपको सब्सिडी मिल जाएगी जो की आपकी लगत की 60% है।

सोलर पावर प्लांट कैसे लगाए

सोलर पावर प्लांट लगवाना कोई ज्यादा बड़ी बात नहीं है। आपको सोलर लगवाने के लिए सबसे पहले अपने नजदीक कोई डीलर जा फिर डिस्टीब्यूटर को देखना पड़ेग। उसके बाद आपको अपनी जरुरत का सोलर सिस्टम को देखना पड़ेगा जो आपकी जर्रूरत मुताबिक हो।

आम तोर पर सोलर प्लांट घरो के लिए 1Kw से लेकर 5Kw तक के होते है। अगर आपका बिजली का लोड 4Kw का है तो अप्प ऐसे लगवा सकते हैसामान्य तोर पर 1Kw का खर्चा 50 से 60 हजार तक का आ जाता है।

अगर हम प्राइवेट कंपनी की बात करें तो जैसे की लूम सोलर ,हावेल्स अदि कंपनी के सोलर सिस्टम है।सोलर सिस्टम की गरंटी लगभग 25 साल की होती है।

सोलर बिज़नेस कैसे स्टार्ट करें

 

सोलर बिज़नेस स्टार्ट करना कोई बड़ी समस्या नहीं है। इस के लिए आपको किसिस भी सोलर कप्म्पनी की डीलरशिप लेनी होगी और उस के बाद आपको अपनी दुकाम खोलनी होगी जिसमे आप अपने सोलर प्रोडक्ट को बेच सकते है।

  1. कुश जर्रोरी बाटे जो आपको सोलर बिज़नेस खोलने से पहले पता होनी चाहिए
  2. बैसे तो सोलर बिज़नेस के लिए कोई पढाई और उम्र की कोई भी आबश्यकता नहीं है लकिन आपके पास 12th और 18 साल उम्र होनी चाहिए।
  3. आपके पास बिज़नेस को चलने के लिए इन्वेस्टमेंट पैसा होना चाहिए जिसे आपको कंपनी डीलरशिप दे सके और अप्प काम शुरू कर सके।
  4. आपको मार्केटिंग की नौलेज होनी चाहिए जिसे अप्प अपना प्रोडक्ट किसी को बेच सके।
  5. कस्टमर को हमेसा अच्छा प्रोडक्ट चाहिए इसलिए आपको एक अच्छी कंपनी का लयसेन्स लेना चाहिए।
  6. जिस भी कपंनी की अप्प डीलरशिप लेनी है अच्छी कंपनी हो जो की लम्बे समय तक्क टिक्की रहे जो कस्टमर को अछिओ सपोर्ट करे।

Leave a Comment