Crawl Budget क्या है ?

Crawl Budget एक ऐसा प्रोसेस है इसमे एक समय किसी भी सर्च इंजन का बोट जैसे की गूगल का रोबोट एक सिमित समय के लिए आता है और बह हमारी वेबसाइट और ब्लॉग को स्कैन करता है इसमे दिए गए नए पेज और पोस्ट को इंडेक्स करता है।इस सारे प्रोसेस को क्रॉल बजट कहते है।

इस में बजट इस लिए कहा गया है क्यूंकि सर्च इंजन का रोबोट एक सिमित समय के लिए ही आता है Crawl Budget किये गए पेज को इंडेक्स कर के चला जाता है। इस प्रोसेस में होने वाले टाइम का किसी को पता नहीं होता यह केवल सेरच इंजन ही जानता है यह टाइम बहुत काम टाइम होता है।

दुनिआ में जितनी भी वेबसाइट और ब्लॉग है सर्च इंजन ने सभी को एक टाइम काल में बात दिया है की रोबोट कब और कहा किसकी वेबसाइट पर जाना है।क्रॉलर रोबोट देखता है की समय में ज्यादा से ज्यादा पेज इंडेक्स हो जाये।

Crawl Budget क्यों जरुरी है

Crawl Budget एस्लाई जरुरी है क्यूंकि सर्च इंजन का रोबोट सिमित समय में आपकी सब पेज को इंडेक्स कर सके। यह प्रोसेस छोटी वेबसाइट के लिए कोई समस्या नहीं है क्यूंकि छोटी वेबसाइट में बहुत पेज होते है क्रॉलर सिमित समय में सब पेज क्रॉल कर जाता है। इस में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होती। यह समस्या ज्यादातर बड़ी वेबसाइट और ब्लॉग में होती है जिसमे बहुत ज्यादा पेज होते है जैसे की 10000 दस हजार पेज।

यह बहुत सारे पेज को एक दम क्रॉल और इंडेक्स करना सिमित टाइम में बहुत मुश्किल है। इस लाई आपको इसकी समस्या का हल बतायेग। अक्सर ऐसा चलता है की गूगल का बोट आता है और कुश टाइम बाद चला जाता है। हम चाहते है की उसी टाइम में गूगल का बोट सब के सब आर्टिकल को करवाल करे और इंडेक्स करे।यह आप इस प्रकार कर सकते है जैसे की निचे दिया गया है।

क्रॉल रेट लिमिट

यह इस प्रकार है जैसे की गूगल ने रोबोट आपकी वेबसाइट पर भेज दिया गया है। यह बोट आपकी सीतये पर कितना टाइम रहे गए और कब जायेगा यह सब क्रॉल रेट लिमिट कहलाता है।

क्रॉल डिमांड

यह हम आपको एक उदाहरण से समजाएगे। जैसे की आपकी वेबसाइट पर 100 पेज इंडेक्स करने के लिए है और क्रॉलर आपकी वेब्सीट्ये पर आया और उसने 80 पेज को क्रॉल किया और इंडेक्स किया जो बाकि बचे 20 पेज है हमने उनको भी इंडेक्स करुणा है गूगल बोट से।

क्रॉलिंग डिमांड का इस्तेमाल करेंगे जैसे की हम गूगल बोट को बेनती करेंगे की हमारी वेबसाइट को रिक्वेस्ट करे फिर से यह सारे प्रोसेस में गूगल का बोट आता है और बाकि बचे 20 पेज को इंडेक्स करके चला जाता है। यह सारा प्रोसेस क्रॉलिंग डिमांड कहते है।

ऐसा क्या करना है की यह समस्या ना हो

  1. अगर आपकी वेबसाइट का लोडिंग स्पीड बहुत कम है तो यह समस्या आ जाती है।
  2. जब आप कोई कंटेंट को कॉपी करते है तो यह एस्लाई भी हो सकता है।
  3. आपकी वेबसाइट और ब्लॉग में एरर(Error)होने पर भी यह समय कम हो जाता है।
  4. अगर आपका कोई पेज हैक हो चूका है तो एह्ग समस्या हो सकती है।
  5. अगर आपका सर्वर बहुत स्लो है तब से समस्या बहुत हो सकती है।

अगर फिर भी आपको इस प्रकार की समस्या आ रही है तो आपको अपनी साइट के साइटमैप(SiteMap) को कुश भागो में बाटना होगा। ऐसा इसलिए क्यूंकि ज्यादातर पोस्ट हम ब्लॉग और वेबसाइट में कटागरी के हिसाब से बांट ते है।

तो हमें हर एक कटागरी का एक अलग सितम[प बनाना होगा। ऐसा होने से गूगल के बोट को आसानी होगी करावल करने ,में और इंडेक्स करने में। इस के बाद अगर कुश क्रॉल करने के लिए रह भी जाता है तो हम क्रॉल डिमांड कर सकते है जिसक्के साथ यह समस्या नहीं होगा।

अगर आपको हमारा आर्टिकल अच्छा लगा तो हमें कमेंट करके जरूर बताना।

Leave a Comment