सांप्रदायिकता (Communalism) क्या है? पूरी जानकारी

सांप्रदायिकता किसी भी देश के अंदर अलग अलग प्रथाओं को मानने वाले लोग रहते है ,एक धरम के अंदर भी ऐसे संपर्दये और समुदाय लोग हो सकते है जो अलग अलग प्रथाओं को मानते है.एक धरम को माने के बाद भी उनकी बिचार दाये अलग अलग हो सकती है तो ऐसे में कुश देश में ऐसे कुश छोटे छोटे समूह बन जाते है इन समूहों को हम समुदाय या संपर्दय कहते है.

जब एक समुदाय यह मानने लगे की सहमने वाला समुदाय उसके हितो का बिरोधी है और यदि उस समुदाय को बिकास करना है तो दूसरे समुदाय पर अकेर्मन करना अब्श्य्क है उसे निचा दिखाना और उसके बिकास में बाधा डालना अब्श्य्क है , जब ऐसी सिथति बन जाती है तो इन दोनों में एक बिरोध उत्पन होता है बही बिरोध साम्प्रदायिकता कहलाता है.

pili-kranti-kya-hai

ऐसे बिरोध से दोनों समुदायों को हानि पोहंचती है क्यूंकि यह दोनों एक देश के ही नागरिक होते है इस लई बास्तब में नुक्सान एक देश के नागरिक का ही होता है। इस लिए सांप्रदायिकता किसी भी देश में रहने वाले नागरिक के लिए हानि का कारन बनती है , यह हानि जान और मॉल दोनों की हो सकती है। यह एक अच्छी बात नहीं है इसमें अपने देश का ही नुकसान होता है , अगर आप एक समझदार नागरिक है तो आप ऐसी सिथति को होने से बचा सकते है।

पीली क्रांति (Yellow Revolution) क्या है?

साम्प्रदायिकता का अर्थ क्या है?

इसका मतलब है की अपने तोर तरीके ,जात पात, खान पीन अदि अपने धरम को भीपिन मानना और दूसरे अन्य मान्यता वाले धर्मो को अच्छा न संजना और उनसे नफरत रखना, भेद भाव रखना अदि साम्प्रदायिकता का अर्थ है।

सांप्रदायिक सद्भाव को प्रोत्साहित करने के लिए आप क्या करेंगे?

  1. सभी धरम के लोगो को एक जुट हो कर रहना चाहिए.
  2. सभी धर्मो के लोगो को एक होकर रहना चाहिए क्यूंकि बह एक देश के ही नागरिक है
  3. सभी को एक दूसरे के त्योहार को मनाना चाहिए ता जो सांप्रदायिक कम हो सके.
  4. पोलिटिकल पार्टी को अपने प्रचार के लिओए किसी भी धरम को गलत भड़काऊ भासन नहीं देना चाहिए.
  5. अन्य धरम वाले लोगो की मदद करनी चाहिए ता जो सांप्रदायिक कम हो सके.

सांप्रदायिक(सांप्रदायिकता )भेदभाव से देश का क्या नुकसान होता है?

ऐसा होने पर देश में बुरा असर पड़ता है। ऐसे करा होने पर हिस्सा होती है और लोगो का नुकसान बहुत होता है और जाल माल का बहुत नुकसान होता है। दो धर्मो के लोगो में बुरा असर पड़ता है।

सांप्रदायिकता का समाधान

  1. अगर सरकार को लगता है की कही पर धरम के प्रति कोई ऐसी बात हो रही है तो सरकार को जल्दी से कोई ऐसा फैसला लेना चाहिए जिस से यह समस्या ने है.
  2. इस के प्रति देश के लोगो को मिल के रहना चाइये ता जो ऐसी नोवत ना आये.
  3. अगर डनगे हो जाते है तो सरकार को पुलिस को निर्देश देने चाहिए तय जो इन सब को रोका जाये.
  4. सरकार को इन के प्रति शकत कानून को बनाना चाहिए.
  5. बचो को स्कूल और कालेज से ही ऐस पढ़ाना चाहिए जिस से आने वाले समय में ऐसी बात ना हो.

Leave a Comment