Electric Vehicle क्या है? – विद्युत् वाहन कैसे काम करता है ?

Electric Vehicle जिसे हम विद्युत् वाहन और ई वाहन भी कहते है। यह बाहन केवल बिजली(इलेक्ट्रिक) से चलते है बिना किसी पेट्रोल और डीज़ल से।इस बाहन में इंजन नहीं होता इसको चलने के लिए इलेक्ट्रिक मोटर का इस्तेमाल होता है और बिजली देने के लिए इसमे बैटरी का उपयोग होता है। इस बाहन में एक ख़ास प्रकार की बैटरी लगी होती है जिसको हम लिथियम आयन बैटरी कहते है।

यह बाहन परदूसण की समस्या को देखते हुए बनाये गए है आज कल पूरी दुनिआ में परदूसण की समस्या बहुत बढ़ गयी इस लइ इनका अबिष्कार हुआ। इन बाहन में न कोई इंजन का सोर और ना ही कोई धुआँ होता है। इस बाहन को बाताबरण के लिए बहुत अच्छा माना गया है।यह बाहन पेट्रोल नहीं लेता इसलेई इसको चार्ज करना पड़ता है।यह बाहन बहुत ही कम खर्चे पर ज्यादा चल जाता है। इसमे प्रयोग होने वाली DC मोटर बहुत ही ज्यादा पावरफुल होती है।

Electric Vehicle(विद्युत् वाहन) काम कैसे करता है।

विद्युत् वाहन का काम करने का तरीका बाकि वाहनों से बहुत अलग है। बाकि पेट्रोल और डीज़ल बहनो की तरह इसमे भी कोई भी ईधन का उपयोग नहीं होता इसमे केवल बैटरी का इस्तेमाल होता है।

लिथियम आयन बैटरी को कार की मुख मोटर से जोड़ा जाता है और इसमे लगे कंप्यूटर सिस्टम की मदद से कार की स्पीड को कम और ज्यादा किया जा सकता है। इस्तेमाल होने वाली लिथियम आयन बैटरी ज्यादातर इलेक्ट्रिक व्हीकल में ही इस्तेमाल होती है।इस इलेक्ट्रिक बाहन में हाई स्पीड और दमदार मोटर का इस्तेमाल होता है जो की बहुत अच्छा कार्य करती है।

इसमे लगने वाली बैटरी जो की AC (Alternating current)और DC(Direct current) पावर से चलती है। बहुत साडी कंपनी है जो की केवल एक प्रकार की ही मोटर का इस्तेमाल करनी है।

Electric Vehicle कितने प्रकार के होते है

अब के ज़माने में केवल तीन प्रकार के बाहन है

  • बैटरी इलेक्ट्रिक व्हीकल(Battery Electric Vehicles)
  • हाइब्रिड इलेक्ट्रिक व्हीकल(Hybrid Electric Vehicles)
  • प्लग-इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स(Plug-in Hybrid Electric Vehicles)

 

बैटरी Electric Vehicle

इस प्रकार के बाहन में केवल बैटरी और बिजली से चलता है इसमे कोई भी इंजन और पेट्रोल की समस्या नहीं होती।यह बाहन बैटरी द्वारा ही काम करता है और चलता है। जो केवल चार्जिंग स्टेशन और चार्जर से ही चार्ज कर के चला सकते है।

इस व्हीकल में साडी किरिया केवल बैटरी ही करती है जैसे की इंजन का काम और ac और हीटर अदि। बाकि सारि बस्तुए बाकि बहनो की तरह बराबर होती है।

हाइब्रिड Electric Vehicle

इस प्रकार के बाहन एलेक्ट्रसिटी और पेट्रोल से चलते है। जैसे की इस बाहन में केवल बैटरी की आबश्यकता नहीं है यह बाहन पेट्रोल से भी चल सकता है। उदाहरण के तोर पर जैसे की आपकी कार चल रही है.

अपने ब्रेक लगा दिए और उस टाइम दौरान आपकी बैटरी चार्ज हो जाती है बैटरी के चार्ज होने के बाद अगर आप किसी ट्रैफिक जैम में होते हो तो अपने आप आपकी कार का कंप्यूटर कार को पेट्रोल से इलेक्ट्रिक में बदल देगा जिस से इंजन बंद हो जायेगा और आपका पेट्रोल बच जाता है और जाम में बाताबरण को भी कोई समस्या नहीं होता।

जब आपकी कार 10 से 15 की स्पीड पर जाती है तब कार इलेक्ट्रिक ऊर्जा का इस्तेमाल करती है जब आप इस स्पीड से कार को ऊपर क्ले जाते हो तो आपकी कार अपने आप कंप्यूटर के संदेश से पेट्रोल इंजन पर चली जाती है। इस कार में बैटरी कार के दिग्गी में लगी होती है।

प्लग-इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स(Plug-in Hybrid Electric Vehicles)

इस प्रकार की कार हाइब्रिड कार की तरह होती है। इस कार में इंजन और इलेक्ट्रिक मोटर भी लगी है। जैसे की आप की कार पेट्रोल पर चल रही है और आपकी कार की बैटरी अपने आप चार्जिंग पर लग जाएगी आपको अलग से चार्ज लगाने की कोई आबश्यकता नहीं है.

कार चलते टाइम अपने आप चार्ज होती है। अगर आपको इंजन नहीं चलना और आप इसको इलेक्ट्रिक मोड से मोटर से चला सकते हो इस मोड में इंजन की कोई आबश्यकता नहीं है। इस प्रकार की कार को प्लग इन हाइब्रिड कार कहते है।

Electric Vehicle के काम क्या है

  1. यह वाहन पेट्रोल और डीज़ल इंजन की तरह काम करती है।
  2. इस प्रकार के बाहन को ऑटो रिक्षा में उपयोग होते है।
  3. इस प्रकार के वाहन परदूसण को कम करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है।
  4. Electric Vehicle की कीमत कम होती है इस लई इसको इस्तेमाल किया जाता है।
  5. अगर हम पेट्रोल और डीज़ल की बात करें तो यह वाहन 5रु किलोमीटर से भी आदिक चलता है औरElectric Vehicle केवल 80 पैसा के हिसाब से चलता है।

इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल क्या है

इलेक्टेरिक मोटर साइकिल एक मात्र ऐसा चालक है जो की केवल इलेक्ट्रिक ऊर्जा से चलता है जिमे पेट्रोल का कोई भी उपयोग नहीं होता।
यह बाहन में जैसे की हमने पहले बताया है बैटरी जो की लिथियम आयन होती है.

यह उपयोंग में ली जाती है।यह बाहन देखने में बाकि मोटरसाइकिल की तरह ही होता है। इसमें कोई आवाज़ और धुआँ नहीं आता एक मात्र सांत होता है।

Electric Vehicle की जरुरत क्यों है

Electric Vehicle बाकि बहनो से बहुत अलग है इस की जरुरत इस ले ज्यादा है क्यूंकि ज्यादा वाहन होने के कारन बाताबरण में धुआँ बहुत हो रहा है दिल्ली जैसे सहरो में बहुत ज्यादा धुआँ है।

और बाकि बाहन बहुत ज्त्यादा शोर करते है उन में से बहुत ज्यादा आवाज़ आती ह। इन सब को देखते हुए इलेक्ट्रिक बाहन की बहुत जरुरत है हमें। और जैसे की हमें अपने पेट्रोल और डिस्ले वाले बाहन को परदूसण सर्टिफिकट और टेक्स की बाहत आबश्यकता है इस के बिना हम अपना बाहन नहीं इस्तेमाल कर सकते।

अगर हम इलेक्ट्रिक व्हीकल की बात करें तो इसमे परदूसण सर्टिफिकट की कोई आबश्यकता नहीं है इसमे केवल आपको अपने बहनको चरगे करना है और इस्तेमाल करना है। इस सब करने से हम को इलेक्ट्रिक व्हीकल की जरुरत है।

Electric Vehicle के फयदे और नुक्सान

Electric Vehicle के फयदे

  1. इस प्रकार के बाहन में पेट्रोल और डीज़ल की कोई आबश्यकता नहीं है।
  2. काम खर्च मई ज्यादा चलता है यह बाहन।
  3. काम लगत में बहुत अच्छा बाहन मिल जाता है।
  4. इस बाहन से किसी भी प्रकार का कोई धुआँ और आवाज़ नहीं आती जिस से कोई भी परदूसण नहीं होता।
  5. इसमे इस्तेमाल होने वाली बैटरी बहुत लम्बे समे तक चल जाती है।

Electric Vehicle के नुक्सान

  1. इलेक्ट्रिक व्हीकल में बैटरी खराब होने पर नई बैटरी में बहुत पैसा बर्बाद होता है।
  2. भारत में बहुत ही कम सहर है जिसमे चार्ज करने के लिए चार्जिंग स्टेशन है पूरे देश में होने चाहिए।
  3. इसको लेते बकत गोवेर्मेंट की तरफ से किसी भी प्रकार की मिलने वाली सब्सिडी बहुत कम है।
  4. इलेक्ट्रिक व्हीकल आम कार से बहुत महंगी होती है
  5. इलेक्ट्रिक व्हीकल अगर खराब हो जाये तो इसको रिपेयर करने के लिए सभी जगह टेक्निशन उपलब्ध नहीं है

Electric Vehicle में इंजन होता है क्या

नहीं ,इलेक्ट्रिक व्हीकल में इंजन नहीं होता है यह केवल इलेक्ट्रॉनिक कार है इसमे इंजन नहीं बल्कि इलेक्ट्रिक मोटर होती है जो की इंजन का काम करती है। कार को पावर देने के लिए इसमे लगी बैटरी इस्तेमाल होती है जो की फ्यूल का काम करती है।

Electric Vehicle की रेंज क्या है

इलेक्ट्रिक व्हीकल की रेंज उसकी बैटरी कैपेसिटी पर निर्भर होती है अगर हम सामान्य इलेक्ट्रिक बाहन की बात करें तो 200 से लेकर 400 किलोमीटर तक है।

Leave a Comment